Bluntly Speaking

देश में संसाधन “माननीय” के लिए उपलब्ध हैं लेकिन आम जनता के लिए क्यों नहीं?